Latest News

RRB NTPC Group D Exam 2022 Suspended रेलवे ने एनटीपीसी और रेलवे ग्रुप डी भर्ती परीक्षाओं पर लगाई रोक आदेश जारी

RRB NTPC Group D 2022 Exam Suspended रेलवे ने एनटीपीसी और रेलवे ग्रुप डी भर्ती परीक्षाओं पर लगाई रोक आदेश जारी: रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB) द्वारा मंगलवार को नया आदेश जारी करने के बाद ग्रुप डी के अभ्यर्थियों ने विरोध करना शुरू कर दिया था. विरोध को देखते हुए रेलवे भर्ती बोर्ड ने ग्रुप डी समेत NTPC एग्जाम पर रोक लगा दी है. बोर्ड की ओर से कहा गया कि अभ्यर्थियों की समस्या सुनने के लिए एक कमेटी बनाई जाएगी.

अभ्यर्थियों की समस्या सुनने के बाद उन पर विचार किया जाएगा और आपत्तियों को आगे मंत्रालय तक भेजा जाएगा.

RRB Group D and NTPC Exam 2022 Suspended रेलवे एनटीपीसी और ग्रुप डी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. अभ्यर्थियों के विरोध प्रदर्शन के बाद रेलवे ने एनटीपीसी और ग्रुप डी की भर्ती फिलहाल के लिए स्थगित कर दी है. रेलवे ने प्रदर्शनकारी परीक्षार्थियों की शिकायतों के लिए एक जांच कमेटी बनाई है. एक जांच कमेटी द्वारा एनटीपीसी एग्जाम की जांच की जाएगी. यह समिति विरोध कर रहे परीक्षार्थियों की आपत्तियों को सुनेगी और इन पर विचार करेगी. इसके पश्चात समिति के द्वारा अपनी रिपोर्ट रेल मंत्रालय को सौंपी जाएगी. आपको बता दें कि रेलवे ग्रुप डी भर्ती की परीक्षा तिथि घोषित की जा चुकी है. वही परीक्षार्थी रेलवे एनटीपीसी परीक्षा के रिजल्ट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. लेटेस्ट अपडेट के लिए अभ्यर्थी रेलवे की ऑफिशियल वेबसाइट को समय-समय पर विजिट करते रहे.

रेलवे के अभ्यर्थियों ने आज किया था देशव्यापी रेल रोको आंदोलन का ऐलान

गुस्साए अभ्यर्थियों ने 26 जनवरी 2022 को एक विशाल आंदोलन करने का ऐलान किया था। रेल रोको आंदोलन को देशव्यापी बनाने के लिए मैसेज को ज्यादा से ज्यादा अभ्यर्थियों के पास भेजा जा रहा हैं. अभ्यर्थियों ने इस आंदोलन के माध्यम से NTPC रिजल्ट में संशोधन, RRB Group D की परीक्षा से सीबीटी-2 हटाने की मांग और रेलवे भर्ती परीक्षाओं का कैलेंडर जारी करने सहित अन्य मुद्दों पर रेल चक्का जाम करने का फैसला किया था।

अभ्यर्थी इसलिए कर रहे हैं आंदोलन

आरआरबी एनटीपीसी की परीक्षा के रिजल्ट में त्रुटि होने और कट ऑफ मार्क्स अधिक होने से अभ्यर्थी नाराज हैं. उनका आरोप है कि सरकार की मनमानी की वजह से युवाओं का भविष्य अधर में लटका है. वहीं, ग्रुप डी के अभ्यर्थी इसलिए प्रदर्शन कर रहे हैं, क्योंकि अब चयन सीबीटी-1 और सीबीटी-2 के बाद किया जाएगा. वहीं, सीबीटी-2 में चयनित अभ्यर्थियों को फिजिकल टेस्ट और डॉक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन के लिए बुलाया जाएगा. इससे पहले इसके लिए अभ्यर्थियों का चयन सिर्फ एक सीबीटी एग्जाम और फिजिकल टेस्ट व डॉक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन के बाद किया जाता था. नोटिफिकेशन में भी यही बात कही गई थी.


रेलवे ग्रुप डी भर्ती को लेकर विरोध इसलिए है

रेलवे भर्ती बोर्ड ने सोमवार को नोटिस जारी किया था, कि ग्रुप डी की परीक्षा के अंदर cbt-2 की एग्जाम भी होगी. सीबीटी फर्स्ट पास करने वाले व्यक्तियों को cbt-2 के लिए बुलाया जाएगा. CBT 1st 2nd के बाद में पीटी और मेडिकल होगा. जबकि अभी तक अभ्यर्थी यह समझ रहे थे कि सीबीटी फर्स्ट में पास होने वाले व्यक्तियों को पीटी देना होगा. हालांकि रेलवे ने 2019 में जारी ग्रुप डी भर्ती लेवल के नोटिफिकेशन में साफ लिखा था कि सीबीटी (कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट) सिंगल स्टेज में करवाना है या फिर मल्टी स्टेज में, यह तय करने का अधिकार रेलवे प्रशासन के पास रहेगा। लेकिन फिर भी विद्यार्थियों का विरोध इस पर लगातार जारी है. अगर अब cbt-2 भी होगा, तो नियुक्ति मिलने में ज्यादा समय लग जाएगा. जिसके कारण cbt-2 कराया जाना गलत माना जा रहा है. इसलिए परीक्षार्थी विरोध कर रहे हैं. अब सीबीटी-1 में सफल उम्मीदवारों को सीबीटी-2 देना होगा। सीबीटी-2 में सफल उम्मीदवारों को पीईटी (शारीरिक दक्षता परीक्षा) के लिए बुलाया जाएगा। इसके बाद डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन व मेडिकल होगा।

Leave a Comment

Join TelegramJoin WhatsApp